तुम मुझे तोड़ नहीं सकते – Motivation

1
60

HAVE YOU BEEN HATED OR DISCRIMINATED ?

IF YOU NOD FOR A YES

DEDICATED THIS TO YOU…

तुम मुझसे नफरत कर सकते हो, मै जनता हु तुम मेरे Perfection से डरते हो
मेरा मजाक बना सकते हो, समंदर से बड़े सपने है तुम्हारे छोटे से कुएं में फिट कैसे होंगे
गालिया तो जरुर दोगे तुम मेरी तरक्की से जो जलते हो, पर पता है क्या, इन सब के बावजूद भी
बस एक चीज़ है जो तुम कभी नहीं कर सकते, तुम मुझे…. तोड़ नहीं सकते
नहीं…. तुम में वो दम नहीं, तुम्हारे शब्दों में वो ताकत नहीं, की मेरी अन्दर की आवाज को, दबा सके
हँसी की तुम्हारी वो गूंज इतनी गहरी नहीं, की मेरे दिल के चिंगारी को बुझा सके

क्या हैसियत है तुम्हारी ? भाई हिम्मत है !
वो हिम्मत जिसके सामने हैसियत अक्सर ही छोटी पड़ जाती है
और सुनो ! तुम्हे हक है सब करने का, तो तुम सब करना
पर कभी भी, मुझे अपने जैसा मत समझना सिवाए साँस लेना
कहानी तुम्हारी पैसो पे खत्म, मेरी इश्क पे शुरु
तुम्हारी तरह सक्सेस का नहीं, मुझे मेरी मेहनत का गुरुर
इंसान से नहीं अपने काम से इश्क, समय भेद जाये, कुछ ऐसी कशिश
कलम से सजती, शब्दों में ढलती, मेरे ख्वाबो की नुमाइश

और ये जो तुम मुझे जज करते हो, आखिर मेरे बारे में जानते क्या हो ?
जितनी तुमने कोशिश नहीं की उससे ज्यादा मैं हार चूका हु
इतना रो चूका हु, की सारे आंसु सुख गए
इतना लड़ा हु, की अब मैं खुद फौलाद हु
और तुम्हे क्या लगता है, तुम्हारी वाहा-वाही का मोहताज़ हु ?
भूल जाओ ! ये कला किसी तालियों की गुलाम नहीं
बस किस बेजुबान की जुबान बने, है इतनी सी दुआ मेरी
और आज तुम अपने शब्दों से तोड़ोगे ! बस एक सवाल है, पहले खुदको नहीं जोड़ोगे ?
ये जो तुम खुद अन्दर से अधूरे हो, इसलिए तो दुसरो को तोड़ते हो अपने जैसा बनाते हो !
और इस से खुद को ताकतवर समझते हो ? कायर हो तुम
क्युकी सच्ची ताकत किसी की उम्मीद या किसी का आत्मविश्वास तोड़ने में नहीं
बल्कि एक टूटे हुए इंसान की हिम्मत बन ने में है उसकी आवाज़ में विश्वास बनने में है
उसको इतना काबिल बनाने में है, की वो अपने पैरो पे फिर खड़ा हो सके
और अपने बलबूते पे जो चाहें कर सके

एक सच्चा leader कभी भी criticize या complain नहीं करता
बल्कि अपना हाथ देता है, उनको, जिसको उसकी जरुरत है
और साथ में आगे बढ़ता है, और हो सकता है की समय के चलते मेरी आवाज़ कमज़ोर पड़ जाये
और उसको मिटाने में, तुम कामयाब हो जाओ
लेकिन पता है क्या ? वो हर दिल जिसमे सपनो की चिंगारी होगी ! मैं उसमे जिन्दा रहूँगा
और चाहकर भी तुम मुझे तोड़ नहीं पाओगे……

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.