Google AMP (Accelerated Mobile Page) क्या है ? इसके फायदे और नुक्सान | पूरी जानकारी

1
92

दोस्तों ,क्या आप गूगल AMP के बारे में सोच रहे है, क्या आप  इसके बारे जानना चाहते है, ये क्या है और कैसे काम करता है। अगर आप जानना जानना चाहते है तो फिर आप बिलकुल सही जगह है। क्युकी आज मैं आपको बताने वाला हूँ “Google AMP (Accelerated Mobile Page) क्या है ? इसके फायदे और नुक्सान” और साथ ही साथ ये भी बताऊंगा की गूगल AMP का प्रयोग कैसे करे।

1. Google AMP ⚡ क्या है ?

गूगल एम्प  ओपन सोर्स प्रोजेक्ट है जो गूगल के द्वारा लांच किया गया है। जिसकी मदद से पब्लिशर्स/ब्लॉगर/वेबसाइट ओनर अपने साइट को मोबाइल optimized कर सकते है। और साइट को फ़ास्ट लोड में हेल्प करता है।

आप सभी को पता होगा की इंडिया में 99 % ट्रैफिक मोबाइल से ही आती है। इसलिए हमे अपने वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाना बहुत जरुरी है। बहुत से ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड डेस्कटॉप में जल्दी खुलती है लेकिन मोबाइल में समय लगाती ही जिसके वजह से ट्रैफिक पर इफ़ेक्ट पड़ता है। इसलिए गूगल ने इसको धयान रखते हुए गूगल AMP लांच किया है जिसकी मदद से वह यूजर को बेस्ट एक्सप्रिएंस दे सकते है।

गूगल AMP प्रोडक्ट के अनुसार एक AMP कोडेड पेज को मोबाइल में खुलने में 0.7 second  का समय लगता है जबकि NON-AMP पेज को ओपन होने में 15 second का समय लगता है। आपको जानकारी के अनुसार बता दू अगर गूगल के सर्वे के अनुसार यूजर सिर्फ 3 second तक प्रतीक्षा करता है अगर आपकी साइट 3 सेकण्ड में नहीं ओपन हुई यूजर दूसरे साइट पर चला जाता है।  जिससे ट्रैफिक पे इफेक्ट पड़ता ही है  बाउंस रेट भी बढ़ता है जिससे earning भी डाउन हो जाती है।

google amp

2.  Google AMP ⚡ काम कैसे करता  है ?

गूगल एम्प एक  सोर्स फ्रेमवर्क HTML है जो HTML का सबसे faster version है। एम्प पेज javascript optimize , CSS3  Optimized या Customized किया जाता है सभी वेबसाइट के पेज इसमें cached होते है। मतलब जिस वेबसाइट में AMP enabled होता है उस साइट को ओपन करने पर सिर्फ कंटेंट ही लोड होता है जिससे वेबसाइट फ़ास्ट लोड होती है। AMP में  साइट पर जितने widget  वो लोड नहीं होती है। जिसे वजह से साइट जल्दी लोड होती है।
 
AMP को तीन भागों में बाटा गया है :
  • AMP HTML

AMP HTML भी HTML लैंग्वेज की तरह है लेकिन AMP HTML को कस्टमाइज करके बनाया गया है। AMP HTML पेज में भी HTML टैग का प्रयोग हुआ है लेकिन कुछ टैग को HTML Specific टैग से replace किया गया है।

{जैसे की :- <img> को <amp-img> से replace किया जाता है}
इन कस्टम टैग को AMP HTML कंपोनेंट्स का नाम दिया गया है।
  • AMP JS

AMP JS लाइब्रेरी का वर्क AMP HTML फ़ास्ट रेंडर प्रस्तुत करने का काम है।

  • AMP Cache

AMP Cache एक प्रॉक्सी बेस्ड डिलीवरी नेटवर्क है,  जिसका काम एम्प पेज को डिलीवर  होता है। AMP Cache एम्प HTML पेज को fetch और cache करके पेज की परफॉर्मेंस को ऑटोमैटिकली इम्प्रूव  करता है।

3.  Google ने  AMP ⚡ क्यूँ  क्रिएट किया ?

गूगल एम्प को स्टार्ट करने के बड़ी वजह ये है की दूसरे सर्च इंजन से कम्पटीशन चल रहा है जिसके वजह से गूगल अपने सर्च में शो हुए वेबसाइट को बेस्ट यूजर एक्सप्रिएंस देने की कोशिश कर रहा है। गूगल अगर बेस्ट स्पीड देता है तो अपने मार्किट को मेन्टेन कर सकता है।
एम्प बनाने का मेन मकसद लोगो को मोबाइल वेब की तरफ आकर्षित करना है। क्युकी गूगल का टॉप इन्सटाल्ड मोबाइल एप्लीकेशन भी है, जो उनके मार्किट शेयर का भी सोर्स है। अगर मोबाइल यूजर बढ़ेंगे तो गूगल का भी इसमें फयदा होगा।

4. Google AMP ⚡ से SEO पर क़्या प्रभाव पड़ता है ?

एम्प सर्च इंजन रैंकिंग फैक्टर नहीं है अगर आप एम्प का प्रयोग करते है तो आपको सर्च इंजन रैंक में ज़्यादा फायदा नहीं होगा। क्युकी सर्च इंजन रैंक करने के लिए आपको SEO के  फैक्टर फॉलो करने होंगे। जो रैंकिंग को बढ़ाने में हेल्पफुल होते है।
लेकिन हम बात करते है वेबसाइट के SEO स्पीड की तो अगर आपका वेबसाइट का लोडिंग स्पीड कम है तो आपका ट्रैफिक भी अच्छा होगा और बाउंस रेट काम होगा। जिसे आपकी  एम्प फास्टर लोड की हेल्प से organic ट्रैफिक बढ़ने की संभावना है।
सर्च इंजन optimization में साइट को फ़ास्ट और responsive होना बेहद जरुरी है और गूगल एम्प का काम ही साइट की स्पीड को बढ़ाना है और रेस्पॉन्सिव बनाना है। इसलिए एम्प use करने से साइट के SEO  पर भी अच्छा प्रभाव पड़ेगा।

5. Google AMP ⚡ के क़्या फ़ायदे  है ?

गूगल एम्प मोबाइल यूजर के लिए बहुत ही फायदेमंद है क्युकि एम्प पेज साइट का लोड और परफॉर्मेंस नॉन-एम्प से बेहतर है। जैसा की सब जानते है, 8०%  लोग मोबाइल से ही सफरिंग करते  हैं। अगर कोई साइट लोड होने में 3 सेकंड से जयादा वक़्त लेती है तो कोई उस साइट पर दुबारा विजिट करना पसंद नहीं करता। एम्प के हेल्प से यूजर आसानी से वेबसाइट को सर्फ कर लेता है।
वेबसाइट की परफॉर्मेंस और लोड टाइम बढ़िया होने से वेबसाइट का आर्गेनिक ट्रैफिक genrate होता है, जोकि पब्लिशर गुड इनकम करने में मदद मिलता है।
Adsense ने भी दावा किया है अगर आपकी वेबसाइट १ सेकंड में लोड होती है तो अपकी कमाई दुगुनी हो जाएगी।

6 . Google AMP ⚡ के क़्या नुक्सान है ?

गूगल एम्प ads को सपोर्ट करता है लेकिन इसको ऐड करने पर आपकी कमाई सिमित हो जाएगी। क्युकी एम्प मेन कंटेंट्स को ही लोड करता है जो ये बहुत बड़ा नुक्सान है।
एम्प गूगल एनालिटिक्स को भी सपोर्ट करता है लेकिन इसमें ऐड करने के लिए आपको different टैग्स कि जरुरत होगी और टैग को सभी पेज पे ऐड करना होगा जिसमे बहुत टाइम बर्बाद होगा।

7. Google AMP ⚡ Other Information

* गूगल एम्प प्रोजेक्ट के बारे में और जानने के लिए ampproject.org पे जाए।
*गूगल एम्प डेमो देखने के लिए g.co/ampdemo पर जाए।
इन्हे भी पढ़िए,

Conclusion:

गूगल एम्प एक नई प्रोजेक्ट है जिसमे बहुत से प्रॉब्लम है उसे सही किया जा रहा हैं। ऐसे में आपको कोडिंग की जानकारी नहीं है तो ऐसे में आप खुद कोड पोस्ट में इम्प्लेटमेंट न करे।
अगर आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पर है तो आप एम्प प्लगइन इस्टॉल कर सकते अगर आप ब्लॉगर पे है तो आप ब्लॉगर एम्प टेम्पलेट यूज़  है।
मैं आपको suggest करूंगा,  की अपने साइट के पेज (कांटेक्ट us, about us) एम्प इम्पलीमेंट करे ऐसा करने से आपकी साइट की सर्च इंजन रैंकिंग बढ़ेगी।
उम्मीद है आपको यह जानकारी पसन्द आयी होगी, अगर इस पोस्ट से जुड़े कोई सवाल हो तो कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.